• Call us: +91-9215825661

Upcoming Events

About us

माता धनपति देवी चैरीटेबल ट्रस्ट (रजि.) रोहतक की स्थपना  वर्ष 2006 में 17 बच्चों को गोद लेकर शिक्षा दिलवाकर की गई। अब इस वर्ष 2017-18 में 155 बच्चे ट्रस्ट के और करीब 100 बच्चें ट्यूशन के मिलाकर यह संख्या बढ़कर क़रीब 250 हो गई हैं तथा ये सभी बच्चे विभिन्न स्कूलों में पढ़ रहे है व ट्रस्ट के शिक्षा सदन पर नियमित रूप से ट्यूशन ग्रहण करके अपने भविष्य को सफ़ल बना रहे हैं। ट्रस्ट का मुख्य उद्देश्य उन्ह होनहार बच्चों को निःशुल्क शिक्षा दिलवाकर महान बनाना है, जो आर्थिक-कमजोर हालात के कारण अपनी पढ़ाई कर पाने में असमर्थ है, ट्रस्ट ऐसे प्रतिभावान एवं होनहार 250 बच्चों को गोद लेकर उनकी पढ़ाई-लिखाई व ट्यूशन फ़ीस का सारा ख़र्च स्वयं वहन करता है।

ट्रस्ट द्वारा दिनांक 28 अक्टूबर 2012, को नेत्रदान व नेत्र जागृति शिविर लगाया गया था जिसमें 56 व्यक्तिओं ने अपने मरनोपरान्त नेत्र दान करने का संकल्प लिया। जिनमें से ट्रस्ट अभी तक अपने प्रयास से 5 व्यक्तिओं के मरनोपरान्त  नेत्र दान करवा चुका है। वर्ष 2012–13 में दैनिक जागरण समाचार पत्र द्वारा ट्रस्ट की गतिविधियों को सांझी परिशिष्ट में दर्शा कर ट्रस्ट को हरियाणा का सुपर ‘200’ का दर्जा दिया।

ट्रस्ट आपसे निवेदन करता है कि आप भी 500 रुपए प्रति माह के सदस्य बनकर या एकमुश्त दान देकर इस पुण्य कार्य में भागीदार बन सकते है।

Our Programmes

Education

ट्रस्ट का मुख्य उद्देश्य उन्ह होनहार बच्चों को निःशुल्क शिक्षा दिलवाकर महान बनाना है, जो आर्थिक-कमजोर हालात के कारण अपनी पढ़ाई कर पाने में असमर्थ है, ट्रस्ट ऐसे प्रतिभावान एवं होनहार बच्चों को गोद लेकर उनकी पढ़ाई-लिखाई व ट्यूशन फ़ीस का सारा ख़र्च स्वयं वहन करता है। ट्रस्ट द्वारा पढ़ाए गए छात्रों को बारहवीं कक्षा के बाद आईआईटी, पी.म.टी, सी.ए की पढ़ाई में भी योगदान दिया जाता है। अभी तक ट्रस्ट द्वारा निःशुल्क पढ़ाए गए अनेको छात्र विभिन्न कम्पनीयों में कार्यरत है, ये सभी बच्चे अपने परिवार का भरण-पोषण करके समाजसेवा में अग्रसर है और ट्रस्ट को निरंतर सहयोग दे रहे है।

Bal Sanskar Kendar

ट्रस्ट द्वारा इन बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिए हर 15 पन्द्रह दिन में बाल संस्कार केन्द्र का आयोजन भारती कन्या सीनियर सेकेंडरी स्कूल, काठ मंडी, में किया जाता है। जहाँ पर इन बच्चों को अपनी विपरीत परिस्थितियों का सामना करने व सुन्दर जीवन जीने की कला सिखाई जाती है तथा अपने माता-पिता व समाजसेवा में अग्रसर रहने की शिक्षा दी जाती है। ताकि ये बच्चें अपने जीवन को सफ़ल बना सके तथा अपने जीवन में उचाईओं को छूते हुए अग्रणीय बन सके।

Medical Camp

ट्रस्ट द्वारा दिनांक 28 अक्टूबर 2012, को नेत्रदान व नेत्र जागृति शिविर लगाया गया था जिसमें 56 व्यक्तिओं ने अपने मरनोपरान्त नेत्र दान करने का संकल्प लिया। जिनमें से ट्रस्ट अभी तक अपने प्रयास से 5 व्यक्तियों के मरनोपरान्त नेत्र दान करवा चुका है। जीते जी रक्तदान, मरने के बाद नेत्रदान। आपके मरणोपरान्त आप द्वारा दान की गई आँख से 4 व्यक्तिओं के जीवन में उजाला होता है और उस व्यक्ति की मदद से आप इस सुंदर संसार को देख रहे  है।

Make a Donation

How to become part of this Family

Testimonials